Skip to content

55+ Best ‘Hindi Thoughts’ ! Thought In Hindi ! हिंदी थॉट्स [2022]

    hindi thoughts

    Hi, We Have Latest Collection Of Good {Hindi Thoughts}, Thought in Hindi for you. Thought Of The Day, Motivational thoughts in Hindi, Golden thoughts of life in Hindi, Hindi thoughts for school assembly, Positive thoughts in Hindi, Latest thought in Hindi, Hindi thoughts for students, Small thoughts in Hindi, Thought in Hindi images, Hindi thoughts, Hindi Thoughts Small, Meaningful quotes in hindi with pictures, #hindithoughts, Shayari On Love , हिंदी थॉट, थॉट इन हिंदी.

    {1} Hindi Thought

    Hindi Thoughts
    Hindi Thoughts

    #1
    व्यक्ति कर्म से,
    महान बनता हे,
    जन्म से नहीं.

    Hindi Thought
    hindi thoughts

    #2
    मनुष्य का राक्षस बनना उसकी हानि है,
    मनुष्य का महापुरुष बनना उसका चमत्कार है,
    और मनुष्य का अच्छा मनुष्य बनना उसका नेक कर्म है.

    hindi thoughts

    #3
    अजनबी हमारे बीच छिपे हैं,
    और हमारे अपने अजनबियों में छिपे हैं,
    यदि आप इसे पहचान सकते हैं,
    तो आपके जीवन में कभी भी बुरा दिन नहीं आएगा.

    hindi thoughts

    #4
    जो लोग सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं,
    वो बहुत कम समय के लिए तरक्की करते हैं,
    लेकिन जो सबके बारे में सोचते हैं,
    उनकी तरक्की जारी रहती है.

    hindi thoughts

    #5
    जिसने अन्यायपूर्वक धन इकक्ठा किया हे,
    और अकड़कर सदा सिर को उठाए रखा हे,
    ऐसे लोगो हमेशा दूर रहो,
    ऐसे लोग स्वयंपर भी बोझ होते हे,
    इन लोगो को शांति कभी नहीं मिलती.

    hindi thoughts

    #6
    Motivational thoughts in Hindi
    जो शक्ति न होते हुवे भी,
    मन से हार नहीं मानता हे,
    उसको दुनिया की कोई ताकत,
    परास्त नहीं कर सकती.

    hindi thoughts

    #7
    Golden thoughts of life in Hindi
    हमें बीते समय (भूतकाल) के बारे में,
    पछतावा नहीं करना चाहिए,
    ना ही भविष्य के बारे में,
    चिंतित होना चाहिए,
    विवेकवान व्यक्ति केवल,
    वर्तमान काल में जीते हे.

    hindi thought
    Hindi Thought

    #8
    हिंदी थॉट्स
    जिस तरह सारा जंगल,
    केवल एक ही सुंगंध से भरे,
    वृक्ष से महक जाता हे,
    उसी तरह एक ही गुणवान पुत्र,
    पुरे कुल का नाम बढ़ाता हे.

    {2} Thought in Hindi

    hindi thoughts

    #9
    शिक्षा सबसे अच्छी मित्र हे,
    एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह,
    सन्मान पाता हे,
    शिक्षा सौंदर्य और यौवन को,
    परास्त कर देती हे.

    hindi thought
    Hindi Thought

    #10
    सेवक को तब परखे,
    जब वह काम न कर रहा हो,
    रिश्तेदार को किसी कठिनाई में,
    मित्र को संकट में,
    और पत्नी को घोर विपत्ति में.

    #11
    Best Good Morning Suvichar
    दुष्ट इंसान की मीठी बातो पर,
    कभी भरोसा मत करो,
    वो अपना मूल स्वभाव,
    कभी नहीं छोड़ सकता,
    जैसे शेर कभी मांस,
    खाना छोड़ नहीं सकता.

    #12
    अगर कोई सांप जहरीला नहीं हे,
    तब भी उसे फुफकारना नहीं छोड़ना चाहिए,
    उसी तरह से कमजोर व्यक्ति को भी,
    हर वक्त अपनी कमजोरी का प्रदर्शन नहीं करना चाहिए.

    #13
    जब कार्यो की अधिकता हो,
    तब उस कार्य को पहले करे,
    जिस कार्य से अधिक फल प्राप्ति हो.

    hindi thought
    Hindi Thoughts

    #14
    जहा जीविका, भय, लज्जा,
    चतुराई और त्याग की भावना,
    ये पांचो न हो वहां के लोगो के साथ कभी न रहे.

    #15
    जिस तरह सोने का परीक्षण,
    उसे घिसकर, काटकर, तपाकर,
    और पिटकर की जाती हे,
    उसी तरह मनुष्य का परिक्षण भी,
    उसके त्याग, आचरण, गुण,
    और उसके व्यवहार से की जानी चाहिए.

    {3} Thought Of The Day

    #16
    किसी भी मनुष्य की,
    वर्तमान स्थिति देखकर,
    उसके भविष्य का मजाक मत उड़ावो,
    क्यूंकि काल में इतनी शक्ति हे की,
    वो भी एक मामूली से कोयले को धीरे धीरे,
    हिरे में बदल देती हे.

    #17
    Hindi Thoughts for Students
    कष्ट और विपत्ति,
    मनुष्य को शिक्षा देने वाले,
    श्रेष्ठ गुण हे,
    जो साहस के साथ,
    उनका सामना करते हे,
    वे विजयी होते हे.

    Hindi Thoughts for Students
    Hindi Thoughts for Students

    #18
    जब जेब में रूपये होते हे,
    तब दुनिया आपकी औकात देखती हे,
    और जब जेब में रुपये न हो,
    तब दुनिया अपनी औकात दिखाती हे.

    #19
    अधिक सीधा साधा होना भी,
    अच्छा नहीं हे,
    सीधे वृक्ष पहले काट दिए जाते हे,
    और टेढ़े मेढ़े वृक्ष कटने से बच जाते हे.

    #20
    ये आठो कभी,
    एक दूसरे का दुःख नहीं समझते,
    यमराज, राजा, चोर, भिकारी,
    अग्नि, वेश्या, छोटा बच्चा,
    और कर वसूल करने वाला इंसान.

    #21
    Hindi Thoughts in English
    Ye aatho kabhi ek dusare ka duhkh nahi samazte,
    Yamaraj, raaja, chor, bhikaaree,
    Agni, veshya, chhota bachcha,
    Aur kar vasool karane vaala insaan.

    #22
    कामयाब होने के लिए,
    अच्छे मित्रों की जरुरत होती हे,
    और ज्यादा कामयाब होने के लिए,
    अच्छे शत्रुओं की आवश्यकता होती हे.

    #23
    जैसे एक बछड़ा,
    हजारो गायो के झुण्ड में,
    अपनी माँ के पीछे चलता हे,
    उसी प्रकार आदमी के अच्छे,
    और बुरे कर्म उसके पीछे चलते हे.

    #24
    दूसरे की गलतियोंसे से सीखो,
    अपने ही ऊपर,
    प्रयोग करके सिखने को,
    तुम्हारी आयु कम पड़ेगी.

    hindi thought
    Hindi Thoughts

    #25
    जिस से प्रेम होता हे,
    उसी से भय भी होता हे,
    प्रेम ही सारे दुखो का मूल हे,
    अन्तः प्रेम बंधनो को तोड़कर,
    सुखपूर्वक रहना चाहिए.

    {4} Motivational Thoughts In Hindi

    इससे पहले डर आपके,
    नजदीक आये,
    आप उसे खतम कर दो.

    Isase pahale dar aapake,
    Najadeek aaye,
    Aap use khatam kar do.

    जब तक तुम लड़ने का साहस,
    नहीं जूटा पाओगे,
    तब तक प्रतिस्पर्धा में जितना,
    तुम्हारे लिए असंभव बना रहेगा.

    Jab tak tum ladane ka saahas,
    Nahin joota paoge,
    Tab tak pratispardha me jitana,
    Tumhare liye asambhav bana rahega.

    सांप के दांत में,
    बिच्छू के डंक में,
    मक्खी के सर में,
    और मनुष्य के मन में,
    जहर होता हे.

    Saap ke daant mein,
    Bichhoo ke dank mein,
    Makkhi ke sar mein,
    Aur manushy ke man me,
    Jahar hota he.

    hindi thought
    Hindi Thoughts

    Hindi Thoughts Short
    दूसरे के हाथो में गया धन,
    कभी वापस नहीं आता.

    Doosare ke haatho me gaya dhan,
    Kabhee vaapas nahin aata.

    जब तक सफल न हो,
    नींद और चैन को त्यागो तुम,
    संघर्ष का मैदान छोड़कर,
    मत भागो तुम,
    कुछ किये बिना ही,
    जयजयकार नहीं होती
    कोशिश करने वालो की,
    कभी हर नहीं होती.

    Jab tak saphal na ho,
    Neend aur chain ko tyaago tum,
    Sangharsh ka maidaan chhodakar,
    Mat bhaago tum,
    Kuchh kiye bina hee,
    Jay-jaykaar nahin hoti,
    Koshish karane vaalo kee,
    Kabhee har nahin hoti.

    ईर्ष्या असफलता का दूसरा नाम हे,
    ईर्ष्या करने से अपना ही महत्व कम होता हे.

    Earsha asaphalata ka doosara naam he,
    Earsha karane se apana hi mahatv kaam hota he.

    संतुलित दिमाग जैसी,
    कोई सादगी नहीं हे,
    संतोष जैसा कोई सुख नहीं,
    लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं हे,
    और दया जैसा कोई पुण्य नहीं हे.

    Santulit dimag jaisi,
    Koi sadagi nahin he,
    Santosh jaisa koi sukh nahin,
    Lobh jaisi koi bimaari nahin he,
    Aur daya jaisa koee puny nahin he.

    भाग्य भी उन्ही का साथ देता हे,
    जो कठिन से कठिन,
    स्थितियों में भी,
    अपने लक्ष्य के प्रति अडिग रहते हे.

    Bhagya bhee unhee ka saath deta he,
    Jo kathin se kathin,
    Sthitiyon mein bhee,
    Apane lakshy ke prati adig rahate he.

    Positive Thoughts in Hindi
    अपना धन उन्ही को दो,
    जो उसके योग्य हो,
    और किसी को नहीं,
    बादलो के द्वारा लिया गया,
    समुद्र का जल हमेशा मीठा होता हे.

    Apana dhan unhi ko do,
    Jo usake yogy ho,
    Aur kisi ko nahin,
    Baadalo ke dvaara liya gaya,
    Samudra ka jal hamesha mitha hota he.

    अपने बच्चों को पहले पांच साल तक,
    खूब प्यार करो
    छह साल से पंद्रह साल तक,
    अच्छे संस्कार और कठोर अनुशाषन दो,
    सोलह साल से उनके साथ मित्रता करो,
    आपकी संतान ही आपकी सबसे अच्छी मित्र हे.

    {5} Mahatma Gandi Quotes in Hindi

    1) आप नम्र तरीके से दुनिया को हिला सकते हैं।

    2) क्रोध को जीतने में मौन सबसे अधिक सहायक है।

    3) कायरता से कहीं ज्यादा अच्छा है, लड़ते-लड़ते मर जाना।

    4) जब भी आपका सामना किसी विरोधी से हो, उसे प्रेम से जीतें।

    5) अक्लमंद काम करने से पहले सोचता है और मूर्ख काम करने के बाद।

    6) जो बदलाव आप दुनिया में देखना चाहते हैं वह पहले स्वयं में लायें।

    7) यदि मनुष्य सीखना चाहे, तो उसकी हर भूल उसे कुछ शिक्षा दे सकती है।

    8) लम्बे – लम्बे भाषणों से कहीं अधिक मूल्यवान है इंच भर कदम बढ़ाना।

    9) प्रेम की शक्ति दण्ड की शक्ति से हजार गुनी प्रभावशाली और स्थायी होती है।

    10) कमजोर कभी क्षमा नहीं कर सकता. क्षमा करने का गुण ताकतवर का है।.

    11) मैं मरने के लिए तैयार हूँ, पर ऐसी कोई वज़ह नहीं है जिसके लिए मैं मारने को तैयार हूँ।

    12) जो लोग अपनी प्रशंसा के भूखे रहते हैं, वो साबित करते हैं कि उनमें योग्यता नहीं है।

    13) आपका कोई काम महत्वहीन हो सकता है लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि आप कुछ करें।

    14) पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे।

    15) गुलाब को उपदेश देने की आवश्यकता नहीं होती है। वह तो केवल अपनी ख़ुशी बिखेरता है। उसकी खुशबु ही उसका संदेश है।

    16) अहिंसा में इतनी ताकत है कि वह विरोधियों को भी अपना मित्र बना लेती है और उनका प्रेम प्राप्त कर लेती है।

    17) मैं हिंदी के जरिये प्रांतीय भाषाओँ को दबाना नहीं चाहता, किन्तु उनके साथ हिंदी को भी मिला देना चाहता हूँ।

    18) मैं हिंसा का विरोध करता हूँ क्योंकि जब ऐसा लगता है कि वो अच्छा कर रही है तब वो अच्छाई अस्थायी होती है; और वो जो बुराई करती है वो स्थायी होती है।

    19) अहिंसात्मक युद्ध में अगर थोड़े भी मर मिटने वाले लड़ाके मिलेंगे तो वे करोड़ों की लाज रखेंगे और उनमें प्राण फूकेंगे। अगर यह मेरा स्वप्न है, तो भी मेरे लिए मधुर है।

    20) अपनी बुद्धिमता को लेकर बेहद निश्चित होना बुद्धिमानी नहीं है. यह याद रखना चाहिए कि ताकतवर भी कमजोर हो सकता है और बुद्धिमान से बुद्धिमान भी गलती कर सकता है।

    वैसे तो अभी एक साल भी नही हुआ था मोहन और सुधा की शादी को….मगर दोनों में झगड़ा हो गया किसी बात पर …जरा सी अनबन हुई और दोनो के बीच बातचीत बंद हो गई …वैसे दोनो पढे-लिखे समझदार है दोनो अपनी नौकरी में व्यस्त तो दोनों का इगो भी बराबर था…

    वहीं पहले मैं क्यों बोलूं….मे कयो झुकूं….ऐसे ही तीन दिन हो गए थे पर दोनों के बीच बातचीत बिल्कुल बंद थी, कल सुधा ने ब्रेकफास्ट में पोहे बनाए पोहे में मिर्च बहुत ज्यादा हो गई सुधा ने चखा नही तो उसे पता भी नहीं चला…और मोहन ने भी नाराजगी की वजह से बिना कुछ कहे पूरा नाश्ता किया पर एक शब्द नही बोला, लेकिन अधिक तीखे की वजह से सर्दी में भी वह पसीने से भीग गया बाद मे जब सुधा ने ब्रेकफास्ट किया तब उसे अपनी गलती का अहसास हुआ….

    एक बार उसे लगा कि वह मोहन से सौरी बोलना चाहिए.. लेकिन फिर उसे अपनी फ्रैंड की सीख याद आ गई कि अगर तुम पहले झुकी तो फिर हमेशा तुम्हें ही झुकना पड़ेगा और वह चुप रह गई हालांकि उसे अंदर ही अंदर अपराध बोध हो रहा था.
    अगले दिन रविवार था तो मोहन की नींद देर से खुली घड़ी देखी तो नौ बज गए थे उसने सुधा की साइड देखा, वह अभी तक सो रही थी अरे ये तो रोज जल्दी उठकर योगा करती है फिर आज अबतक सो रही है….

    खैर… मुझे क्या….मोहन बुदबुदाया…उसने किचन में जाकर अपने लिए नींबू पानी बनाया और न्यूजपेपर लेकर बैठ गया
    दस बजे तक जब सुधा नही जगी तब मोहन को चिंता हुई …
    कुछ हिचकते हुए वह उसके पास गया…
    सुधा … दस बज गए है …अब तो उठो …

    लेकिन कोई जवाब नही…. दो – तीन बार बुलाने पर भी जब कोई जवाब नहीं मिला तब मोहन परेशान हो गया उसने सुधा का कम्बल हटा कर उसके चेहरे पर थपथपाया….. उसे तो बुखार था
    वह जल्दी से अदरक की चाय बना लाया सुधा को अपने हाथों का सहारा देकर बिठाया और पीठ के पीछे तकिया लगा दिया ….. और उसे चाय दी.

    कोई दिक्कत तो नही कप पकड़ने मे….क्या मैं पिला दूं …मोहन के कहने का अंदाज में कितना प्यार था यह सुधा फीवर में भी महसूस कर रही थी…
    नही….मैं पी लूंगी .. सुधा बोली
    मोहन भी बेड पर ही बैठ कर चाय पीने लगा
    इसके बाद तुम आराम करो तबतक मैं मेडिसिन लेकर आता हूं…

    सुधा चाय पीते-पीते भी उसे ही देख रही थी …..
    कितना परेशान लग रहा था …कितनी परवाह है मोहन को मेरी…
    कहीं से भी नही लग रहा कि तीन दिन से हम एक- दूसरे से बात भी नही कर रहे और मैं इसे छोड़कर मायके जाने की सोच रही थी… कितनी गलत थी मै…

    अरे ‘क्या हुआ …..मोहन ने उसे परेशान देख पूछा …
    सिर में ज्यादा दर्द तो नही हो रहा ….आओ मै सहला दूं…
    नही मोहनजी… मैं ठीक हूं …वैसे एक बात पूछूं…
    हां बिल्कुल…..मोहन ने सहज भाव से कहा.

    इतने दिन से मैं तुमसे बात भी नही कर रही थी और उस दिन ब्रेकफास्ट में मिर्च भी बहुत ज्यादा थी तुम बहुत परेशान हुए फिर भी तुम मेरी इतनी केयर कर रहे हो …
    मेरे लिए इतना परेशान हो रहे हो… क्यो…
    हां ….परेशान तो मैं बहुत हूं , तुम्हारी तबियत जो ठीक नही और रही मेरे – तुम्हारे झगड़े की बात … तो जब जिंदगी भर साथ रहना ही है तो कभी -कभी बहस भी होगी , झगड़े भी होंगे ,रूठना -मनाना भी होगा…दो बर्तन जहां हो वहां कुछ खटखट तो होगी ही…

    समझी कि नही मेरी जीवनसंगिनी….आओ तुम बैठे मे तुम्हारे बालों में थोडा तेल लगा दूं तुम्हें आराम मिलेगा…
    मोहनजी….. आप बिलकुल सही कह रहे हो…कहते हुए सुधा मोहन के गले लग गई…
    मन ही मन उसने अपने- आप से वादा किया.. अब कभी मेरे और मोहन के बीच इगो नही आने दूंगी…..
    मेरे दोस्तों… पोस्ट करने का सार्थक प्रयास यही है सभी शादीशुदा दंपतियों के बीच नोकझोंक कहासुनी अवश्य होती है इसमें अहंकार या ईगो को बीच मे नही आने देना चाहिए. दोस्तों जिंदगी में कभी कभी ये हुनर भी आजमाना चाहिए …
    अगर जंग हो अपनों से हार जाना चाहिए.
    एक दोस्त की सुंदर रचना.

    Next Page
    1] Shayari Diary
    2] Motivational Quotes In Hindi
    3] Dard Bhari Shayari
    4] Romantic Shayari
    5] Dosti Shayari

    Marathi Shayari, Pati Patni Status, Gulzar Quotes, English Shayari, Inspirational Love Quotes, Funny Shayari, Shayari Photo, Friendship Shayari, Hindi Quotes, Hot Shayari,Birthday Shayari, Love Status, Sad Status, Attitude Shayari Hindi Status, A Whatsapp DP, Marathi Status, Home Quotes, Marathi Story, Whatsapp Status
    True Love Shayari, Love Shayari Marathi , Mobile, Sad Shayari In Hindi , Best Shayari

    If you like this Shayaris then please share to social networking site.
    You can also find us on Facebook.
    26 October 2022.

    Best Cheap Web Hosting India | Starts From Rs.399/Year | Cheap Hosting India

    Hostingspell is one of the Best Cheap web hosting in india. We provides the better web hosting at affordable prices.If you are looking for affordable hosting you can look at us.

    DMCA.com Protection Status