Dayri Sayri

Sayri ki dayri –Dayri Sayri :-इश्क़ में में जी गया,इश्क़ में में मर गया,इश्क़ आग का दरिया था,फिर भी में उतर गया था. Ishq me mein gaya,Ishq me mar gaya,Ishq aag ka dariya tha,Phir bhee mein utar gaya tha. आहिस्ता बोलने का तेरा अंदाज़ बहुत कमाल हे,कान सनुते कुछ नही लेकिन दिल सब समझ जाता … Continue reading Dayri Sayri