Shayari 2019

नींद से क्या शिकवा, जो रोज मुश्किल से आती हे,
कसूर तो उस चेहरे का है, जो मुझे सोने भी नहीं देता
.

Shayari 2019

खूबसूरती न तो सूरत में हे,
न लिबाज में हे,
मेरी आँखे जिसे चाहे,
उसे हसीं कर दे.

Shayari 2019
Scroll to top